बस लिखूंगा

जमा थी ऐब जितनी उन्हें ही पन्नों पर उतार रहा हूँ,
ना जाने कौन-सी सदी से यहाँ गिरफ्तार रहा हूँ।

-vj

शब्दावली: रूह- दिल, मसरुर- आनंदित, ऐब- बुराइयां

छवि श्रेय: इंटरनेट

Happened! हुआ क्या है?

पूछो हुआ क्या है?”

अग़र मुक़द्दर ही रूठ जाये, पूछो हुआ क्या है?
सफ़र में राही ही छूट जाये, पूछो हुआ क्या है?

दर्द तो छूटने और रूठने का सभी को है होता,
मन जब रोने की सजा पाये, पूछो हुआ क्या है?

यूँ तो कभी खाने से दुश्मनी नहीं किसी की,
मन जब भूखा ही रहने में मजा पाये, पूछो हुआ क्या है?

आज हर ख़्वाब जो अपने से हैं लगते,
कल इक ख़्वाब जब हाथ छुड़ाये, पूछो हुआ क्या है?

ये मुस्कुराते चेहरे किस को हँसी नहीं देते,
जो इक मुरझाया मुखड़ा ना भूल पाये, पूछो हुआ क्या है?

चंद बूंदों से ही कलियां हैं फूल बन जाया करतीं,
हज़ार बूंदों से भी जब कलियां ना खिल पाये, पूछो हुआ क्या है?

जिन्हें गैरों की दुश्मनी भी अपनी है लगती,
ग़र उसे अपना ही ना रास आये, पूछो हुआ क्या है?

संग जिस के सफर में आनंद हो आता,
हम-सफर वो जब साथ छोड़ जाये, पूछो हुआ क्या है?

-vj

Translated:


If destiny stopped responding you, ask yourself what was your fault?
If your fellow traveler left you alone, ask yourself what was your fault?

Everyone has the pain of kittle and breaking,
When feeling gets the punishment of crying, ask yourself what was your fault?

As we know, In this world every person loves to eat,
When the mind enjoys being hungry a day, ask yourself what was your fault?

Today every dream seems to be fulfilled,
Tomorrow when a dream starts being fade away, ask yourself what was your fault?

Who loves to see these smiling faces,
If he couldn’t forget a sad face a day, ask yourself what was your fault?

Only a few drops are necessary for buds to be flower,
When the buds do not bloom even with a thousand drops,
ask yourself what was your fault?

Those who feels happiness towards their enemies,
If he does not like any one his own a day, ask yourself what was your fault?

With whose journey finds pleasure,
When he does not likes your company, ask yourself what was your fault?

छवि श्रेय: इंटरनेट