Categories
कविता

Prayer

adult-background-backlit-1615776~2-2.jpgPicture credit: Internet

“मुझे भी सिखा दो”

ऐ ख़ुदा!
मुझे भी सिखा दो, अब और नहीं रहा जाता,
उनके ज़ज़्बे को देख, शिथिल नहीं बहा जाता,

मैं भी उन-सा ही हूँ, फिर भी पीछे रह जाता हूँ,
वे ऊपर उठे जाते हैं, मैं नीचे ही रह जाता हूँ,

यह दर्द-ए-हिज़ाब और नहीं सहा जाता,
मुझे भी सिखा दो, अब और नहीं रहा जाता।

मन की गरमाहट सब कुछ तो करना चाहती हैं,
हौसलों की ज़ागीर लिए बेख़ौफ़ उड़ना चाहती हैं,

अब अरमानों का शैलाब लिए और नहीं बहा जाता,
मुझे भी सिखा दो, अब और नहीं रहा जाता।

-vj

शब्दावली: सिथिल: मंद, हिज़ाब: शर्म

Translated:

Oh God!
Please bless me too, its impossible to stand more,
Seeing their spirit, I’m unable to get their score.

I am the same as others, yet I am left behind,
they rising up hook-crook & I stayed down spind.

Now the pain of modesty is no more enduring,
Please Lord bless me too, its impossible to lowering.

Warmth of mind wants to do everything,
& wants to fly fearlessly with the spirits of wing.

Now there is no more shedding of aspirations,
Please Lord bless me too, I losing my acceleration.

Categories
शेर-ओ-शायरी

फ़रियाद

Picture credit: Internet

ऐ खुदा! दो दुआ अगर तो याद भी रखना,
यूँ ही देख कर भूलने वाले बहूत हैं,
तेरे दर पर आया हूं, बहूत आस में हूं,
अब तो सफल हो जाऊं, वरना घूरने वाले बहूत हैं।

-vj

Translated:

Hey God!  If you are caring then please remember me always,
Here, in this world, there are many person who forget me easily,
I have came at your levee, I am very much in hope,
Let me be successful now, or there are many who judge me easily.

Categories
शेर-ओ-शायरी

Prayer …फ़रियाद

“मेरा साथ न छोड़ा”

आइने के किसी भी टुकड़े ने मेरा साथ ना छोड़ा,
फ़रियादों के एक भी हिस्से ने मेरा आस ना तोड़ा,
मैं कैसे कर सकता था बे’वफ़ाई, ऐ खुदा तेरी मुहब्बत से,
वक़्त कैसा भी रहा तूने मेरा हाथ ना छोड़ा।

-vj

Translated:

The piece of every mirror have never left me alone,
Not a single part of the complainants have broken my hopes,
How could I do infidelity, Hey Lord! with your love,
You have never left my hand at any stage of my life.

छवि श्रेय: इंटरनेट

Categories
शेर-ओ-शायरी

Prayer फ़रियाद

“मुझे कुछ न दो”

मुझे कुछ ना दो दुहाई में, पर गवाही देना,
इन बंजर सड़कों को दो राही देना,
यही सब आसरे हैं किसी के जीने की,
ऐ खुदा! बस एक ख़त लिख लूँ, थोड़ी स्याही देना।

-vj

छवि श्रेय: इंटरनेट