Categories
कविता

पास बुलाओ.. Encouragement

Picture credit: Internet

“जुनूँ से पूछो था कहां”

उस जुनूँ से पूछो था कहां,
थोड़ी डाँट लगाओ, पास बुलाओ।
गुफ़्तुगू की ग़र हो ख़्वाईश,
ज़मीर का पता लगाओ, पास बैठाओ।

सुकूँ को चैन से रहने न दो,
सुकूँ को बंधक बनाओ, पास बुलाओ।
बारिशों की चाहत लिए न बैठो,
ज़मीं में सुरंग कराओ, प्यास बुझाओ।

अँधेरी रातों में उजाले न ढूढों,
बस इक दीप जलाओ, प्रकाश फैलाओ।
अभी सफर बहोत है लंबा, छाले न देखो,
कदम बढ़ाओ, मंज़िल तक जाओ।

यूँ कब तक अल्फाज़ों को सुला के रखोगे,
ख़ामोशी हटाओ, लफ़्ज़ों को जगाओ।
कौन कहता है हार गए तुम,
उन्हें झूठा ठहराओ, प्रयास बढ़ाओ।

-vj

Translated:

Ask your passion where was it,
Scold a little, call nearby,
If you have a wish to communicate,
Find the conscience, tell it to sit nearby.

Do not let ‘relaxation’ rest in peace,
Make hostage of relaxation, call nearby,
Do not wait for the rains,
Make a tunnel in the ground, quench thirst.

Do not seek light on dark nights,
Just light up a lamp, spread the light.
Still the journey is too long, don’t see the blisters,
Step up, go to the destination.

How long will you put your words on the rest,
Remove the silence, wake up the words.
Who says that you have lost,
False them, increase the effort.

Have a great day ahead. Stay self-motivated.