Categories
कविता

Body vs Mind

Picture credit: Internet

“तन-मन का द्वेष”

मेरी उंगलियां भी कभी-कभी रुक जाती हैं,
ये पलकें भी कभी-कभी झुक जाती हैं,
मन तब भी रुकने का नाम नहीं लेता,
तन थक कर जब नींद को सम्मुख पाती है।

वह नींद से भी लड़ने को तैयार होता है,
वह आँखों पर नहीं मस्तिष्क पर सवार होता है,
अंततः जीत तो पाता नहीं उस से,
पर नींद को भी सहना तिरस्कार होता है।

वह जितना तन है थका होता, उतना सर भी थका देती है,
थकावट तो पास है होती, पर सोने कहाँ देती है,
इक दूजे से द्वेष कर दोनों इतने चूर हो गए होते हैं,
नींद पास है होती पर दूर हो गए होते हैं।

-vj

Translated:

Sometimes my fingers stop me to write,
sometimes these eyelids are also tilted to fight,
even the mind does not take the name of stopping,
when the tiredness of body, finds sleep in front of him.

He is also ready to fight with sleep,
He rides the brain, not eyes to sleep,
Eventually he could not win with it,
But the sleep has to suffer disdain so deep.

It makes the mind as sleepy as body was,
Exhaustion is near, but where does it allow him to sleep?
Both are fighting with each other to fulfill one’s need,
but sleep forgets itself how to asleep..

Categories
शेर-ओ-शायरी

Separation_विरह

मुलाकातें कितनी भी कर लूं, कम-सी होती है,
दूर होने पर उनसे, घुंटन-सी होती है,
बयाँ करूँ कैसे हाल-ए-दिल, दूर ही तो हैं,
याद कर, बातें फिराक की, चुभन-सी होती है।

-vj

फ़िराक- separation

Translated:

No matter how many meetings I have, it always seems less,
When i am away from you,  I feel discomfort,
How would i tell you my heart’s voice, really I’m far from you,
My heart aches to feel the thoughts of separation.

छवि श्रेय: इंटरनेट