Untold words.

Picture credit: Internet

“नहीं लिखी मैंने”

जो बात पढ़ी जानी थी वो बात नहीं लिखी मैंने,
दरिया से जो टकराये वो बरसात नहीं लिखी मैंने,

अश्क़ों में जो बह जाए वो जज़्बात नहीं लिखी मैंने,
रात भर जो ख़्वाब न लाये वो रात नहीं लिखी मैंने,

हाँ लिखना कुछ और ही था वह राज़ नहीं लिखी मैंने,
बिन तिरे जो गुज़ार’नी हो वो साथ नहीं लिखी मैंने,

वक़्त बेवक़्त तेरी याद लाये वो हालात नहीं लिखी मैंने,
जो लबों पर बिन सुने ही आये वो नग्मात नहीं लिखी मैंने।

-vj

Translated:

I did not write the word what was to be read,
I did not write the rain that would hit the rivage.

I did not write the emotion that would flow in the tears,
I did not write the night that don’t bring the dream throughout the night.

Yes, I wanted to write something else, I did not write that secret,
I did not write the meeting in which you are not with me.

I did not write the situation that remind me about you anytime, anywhere,
I did not write the lyrics that came without listening to the words.

Always think forward

Picture credit: Internet

“सोच सदा आगे की रख”

सोच सदा आगे की रख,
पीछे का तो सब बीत गया,
ग़र हुआ नहीं ऐसा इस बार,
समझो फिर से कोई जीत गया।

धीमी ही तूने चाल रखी,
आगे निकल तेरा मीत गया,
वो खुशी के गाता गीत गया,
तिरा इक सपना फिर अतीत भया।

हाथों में तिरे कुछ न लगा,
वह फिर से दुःखातीत भया।

अब वक़त हुआ आशातीत बन,
कुछ ऐसा नहीं जो छूट गया,
सोच सदा आगे की रख,
पीछे का तो सब बीत गया।

-vj

Translated:

Always keep thinking ahead,
everything behind us has been passed,
if you will not do best this time,
you must think that someone has won again.

Your every move was too slow,
that’s why your fellow has overtaken you.
He sang the songs of happiness,
& your happiness became dream again.

You get nothing in your hands,
and he felt the happiness again.

Now its time to be hopefulness,
you still have the the chance to get.
Always keep thinking ahead,
everything behind us has been passed.

Sleeping.. Sleeping

Picture credit: Internet

“निद्रा”

जब थकावट में सदियों की निद्रा पास आती है,
सर हवाओं में झूमकर, बिस्तर की याद दिलाती है,
आँख अंधेरे में खोकर सब कुछ भूल जाता है,
तन को तब सिर्फ, सोने में मजा आता है।

मैं बत्तियाँ बुझाया या नहीं कहाँ सोचता हूँ,
बिस्तर भी लगाया या नहीं कहाँ खोजता हूँ,
ये सभी न जाने किस अंधेरे में खो जाती हैं,
वो कुर्सियां वो टेबल मेरा बिस्तर हो जाती हैं।

तब वो चैन और सुकूँ, मैं सोकर ही पाता हूं,
जिन्हें ढूढ़ने मैं, जग कर ही लग जाता हूँ,
यूँ उठ जाने पर सुकूँ फिर कहाँ रास आती है,
जो थकावट में सदियों की निद्रा पास लाती है।

-vj

Translated:

When centuries of sleep come to exhaustion,
the head reminds me about the bed, swinging in the wind,
eye forgets everything to lost in the darkness,
then the body enjoys only sleeping.

I do not think about the lights, they are extinguished or not,
i do not find the bed, it’s near to me or not,
they all get lost in the unknown darkness,
Those chairs, those tables became my bed at then.

Then that relax and patience, i get via. sleeping,
whom i need to find after awakening,
after waking up, it’s not necessary we will get happiness or not,
which brings centuries of sleep in exhaustion.

:Sleeping is the best gift of Lord.

Life journey

Picture credit: Internet

“जीवन एक सफर”

हम क्या लेकर आये थे,
क्या लेकर जाएंगे,
कुछ पास नहीं था मेरे,
क्या देकर जाएंगे। 

कुछ अच्छे कर्म बनाकर हम,
खुशियाँ लेकर आये थे,
कुछ अच्छे कर्म सँजोकर हम,   
यादें देकर जाएंगे।

मुट्ठी में थोड़ी लकीर लिये,
यूँ रोते-रोते आये थे,
उस आखिरी सफ़र में हम,
सोते-सोते जाएंगे।

सब कुछ हासिल करने आये थे,
सब कुछ हासिल कर जाएंगे,
पर वक़्त की आखिरी मोड़ पर,
सब खोते-खोते जाएंगे।

यह जीवन एक सफर है,
सब मुसाफ़िर बन यहाँ आएंगे,
बस अपनी बारी आज यहाँ,
कल हम भी मुसाफ़िर कहलाएंगे।

रक्खा मन में कोई द्वेष नहीं,
ना ही रख कर कुछ जाएंगे,
सब से मिल जुल के हम,
अपना हर वक़्त बिताएंगे।

बस मोह के बंधन में बंधकर,
सब करते ही चले जाएंगे,
जब आँखें बंद करूंगा मैं,
सब ख़्वाब ही कहलाएंगे।

हम कुछ लेकर ना आये थे,
ना ही कुछ लेकर जाएंगे,
पर जितना वक़्त मिला हम को,
हम सब को देकर जाएंगे।

जब साथ नहीं होंगे हम,
जब पास नहीं होंगे हम,
सब इन यादों और बातों से,
थोड़ा तो वक़्त बिताएंगे।

कुछ अच्छे कर्म बनाकर हम,
खुशियाँ लेकर आये थे,
कुछ अच्छे कर्म सँजोकर हम,   
बस यादें देकर जाएंगे।

-vj

Translated:

What did we bring,
what else will we take from here,
i had nothing in my hand,
what will we give when we leave.

By making some good deeds,
we brought happiness,
By making some good efforts,
we will give memories.

With a slight lines in the fist,
we started our journey via weeping,
In that last of the journey,
we will go with great sleeping.

We came to achieve everything,
and will get everything,
but at the last turn of time,
we will lost that everything.

This life is a journey,
everyone has came here as a traveler,
now it’s our turn today,
tomorrow we will also be called as a traveler.

Kept no malice in the mind,
neither will take any malice nor I give,
Mostly, we will spend all our time with everyone.

Just in the bondage of fascination,
we will keep doing everything,
when will I close my eyes,
all will be called dreams.

We did not bring anything,
neither will not take anything,
but the time we got here,
we will give it to everyone.

When will we not be together,
when will we not close,
You will spend your time,
with all these memories and things,

What did we bring,
What else will we go from here,
I had nothing in my hand,
What will we give when we leave.

यादों की बातें… Dreaming the reality

Picture credit: Internet

“यादों की बातें”

न ज़माने को ज़माना पसन्द आता है,
ना ही नींद को, सो जाना पसन्द आता है,
वह जो पसन्द आता है, बिन बुलाये आता है,
कभी लबों पर तो कभी रूह में बस जाता हैं।

बात अलग है…..वह खो जाता है,
बस ख़्वाबों में ही, अपना हो पाता है,
क्या ख़बर उसे.. ऐसे में क्या-क्या हो जाता है,
जब इंतिज़ार में कोई शख्स, अक़्स हो जाता है।

फर्क बस इतना-सा है…
किसी को अकेलापन भाता है,
किसी को, किसी का साथ होना रास आता है।

कम्बख़त यह मन…. बस थोड़ी-सी आस जगाता है,
फिर कहीं दूर चला जाता है,
सिर्फ इतना ही नहीं…साथ-साथ अपने,
जो दिया है होता…वह भी साथ ले जाता है।

ऐसे में वक़्त कहां गुज़र पाता है,
जब वह वक़्त-बे’वक़्त याद आता है,
इक शख्स फिर, जमाने से दूर हो जाता है,
वह खामोशियों में मसरूफ़ हो जाता है।

क्या पता फिर कब मुस्कुराता है,
क्या पता कब तस्कीन हाथ लगाता है।

यहां तो…
जो पसन्द आता है बिन बुलाये आता है,
कभी लबों पर तो कभी रूह में बस जाता हैं।

-vj

शब्दकोश:

अक़्स– निशान, मसरूफ़– संलग्न, तस्कीन– तसल्ली

Translated:

Neither world likes the world,
Neither sleep, likes to sleep,
The one who loves us, comes without calling,
those people sometimes makes place in the heart and sometimes they become our breath.

It is different thing that we loose those feelings soon,
and we get them close just in dreams,
he don’t know anything, what happens in such a situation,
when a person became a sign in waiting.

The only difference is …
Someone likes loneliness,
Someone likes to be with someone.

Well, this mind ….
awakens hope just for few moments,
then goes away somewhere,
not only that… together with itself,
whatever it has given … he also takes away.

in such a moment, it’s hard to pass time.,
when we remember them time and time again,
one person then, gets away from the world,
then he falls in the silence and loves to stay there.

who knows when he smiles,
who knows when he meets the comfort,

Here it is…
The one who loves us, comes without calling,
those people sometimes makes place in the heart and    sometimes they become our breath.

Love yourself…

Picture credit: Internet

“बनो ख़ुद ही कश्ती ख़ुद पतवार”

जब मंज़िल हो भव सागर पार,
ना साथ हो कश्ती, ना कोई यार,
करो ना तुम किसी का इन्तिज़ार,
बनो ख़ुद ही कश्ती ख़ुद पतवार।

जब पड़ा हो लफ़्ज़ों का भंडार,
कोई ना हो सुनने को तैयार,
पन्नों पे करो शब्दों का वार,
बनो ख़ुद ही कश्ती ख़ुद पतवार।

जब दस्तक खुशियाँ ना दे पायें,
और ग़म की भार सही ना जाये,
ज़ज़्बे की उठाओ तुम हथ्यार,
बनो ख़ुद ही कश्ती ख़ुद पतवार।

जब उज़ाला जल्द ही जाने को हो,
पास डर का अंधेरा आने को हो,
दो रात को भी उतना ही प्यार,
बनो ख़ुद ही कश्ती ख़ुद पतवार।

-vj

Translated:

When the destination is across the ocean,
& neither a boat nor a sailer is with you,
Do not wait for anyone,
Be a sailer and rudder of your journey.

When there is a stock of words,
No one is ready to listen,
Hit words on pages,
Be a sailer and rudder of your journey.

When the happiness don’t knock your door,
And the weight of the sorrow is hard too lift,
Then pick up the arms of courage,
Be a sailer and rudder of your journey.

When the light is on its way soon,
and the darkness of fear is about come,
Put same love and feeling for darkness as lights,
Be a sailer and rudder of your journey.

It’s a beautiful way to show love in this Valentine Day. I celebrate Valentine Day with my own company. I love myself most. It’s really amazing and pleasing. Stay blessed friends.

पास बुलाओ.. Encouragement

Picture credit: Internet

“जुनूँ से पूछो था कहां”

उस जुनूँ से पूछो था कहां,
थोड़ी डाँट लगाओ, पास बुलाओ।
गुफ़्तुगू की ग़र हो ख़्वाईश,
ज़मीर का पता लगाओ, पास बैठाओ।

सुकूँ को चैन से रहने न दो,
सुकूँ को बंधक बनाओ, पास बुलाओ।
बारिशों की चाहत लिए न बैठो,
ज़मीं में सुरंग कराओ, प्यास बुझाओ।

अँधेरी रातों में उजाले न ढूढों,
बस इक दीप जलाओ, प्रकाश फैलाओ।
अभी सफर बहोत है लंबा, छाले न देखो,
कदम बढ़ाओ, मंज़िल तक जाओ।

यूँ कब तक अल्फाज़ों को सुला के रखोगे,
ख़ामोशी हटाओ, लफ़्ज़ों को जगाओ।
कौन कहता है हार गए तुम,
उन्हें झूठा ठहराओ, प्रयास बढ़ाओ।

-vj

Translated:

Ask your passion where was it,
Scold a little, call nearby,
If you have a wish to communicate,
Find the conscience, tell it to sit nearby.

Do not let ‘relaxation’ rest in peace,
Make hostage of relaxation, call nearby,
Do not wait for the rains,
Make a tunnel in the ground, quench thirst.

Do not seek light on dark nights,
Just light up a lamp, spread the light.
Still the journey is too long, don’t see the blisters,
Step up, go to the destination.

How long will you put your words on the rest,
Remove the silence, wake up the words.
Who says that you have lost,
False them, increase the effort.

Have a great day ahead. Stay self-motivated.