Categories
शेर-ओ-शायरी

Separation_विरह

मुलाकातें कितनी भी कर लूं, कम-सी होती है,
दूर होने पर उनसे, घुंटन-सी होती है,
बयाँ करूँ कैसे हाल-ए-दिल, दूर ही तो हैं,
याद कर, बातें फिराक की, चुभन-सी होती है।

-vj

फ़िराक- separation

Translated:

No matter how many meetings I have, it always seems less,
When i am away from you,  I feel discomfort,
How would i tell you my heart’s voice, really I’m far from you,
My heart aches to feel the thoughts of separation.

छवि श्रेय: इंटरनेट

By साधक

Poetries | Poems | Ghazals | Sher-o-shyaries

11 replies on “Separation_विरह”

“बातें फिराक की, चुभन-सी होती है।”

यही होता है, सच कहा…जिंदगी का एक पहलू यह भी होता है।

Liked by 1 person

मैंने भी ऐसा सांसारिक भीड़ में अनुभव किया है, इसलिए बहना इस विषय पर लिखना ज़ुरूरी हो गया🙏

Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s